बांगरमऊ के उपचुनाव पर तीसरे नम्बर से दूसरे नम्बर पहुंचने की जद्दोजेहद में सपा का आखिरी दांव

उन्नाव जिले में जनाधार खो चुकी कांग्रेस नेता एवं पूर्व सांसद अन्नू टंडन आज सपा में शामिल हो रही हैं। सूत्रों के हवाले से बांगरमऊ उपचुनावों में कांग्रेस सबसे आगे चल रही है। जमीन से आई कई रिपोर्ट्स बता रही हैं कि कांग्रेस व भाजपा की टक्कर में व कांग्रेस को मिलती लीड के बीच सपा बांगरमऊ में तीसरे नम्बर पर रहने वाली है। तीसरे नम्बर से दूसरे नम्बर पर आने की जद्दोजहद में सपा अपना अंतिम दांव खेल रही है और जनाधार खो चुकी कांग्रेस नेता अन्नू टंडन को सपा में शामिल किया जा रहा है। सूत्र बताते हैं कि अन्नू टंडन ने भाजपा में शामिल होने के लिए भी हाथ – पैर मारे थे। लेकिन उनके पस्त जनाधार व भाजपा के कद्दावर नेताओं की वजह से उनको भाजपा में कोई भाव नहीं मिला। उसके बाद उन्होंने सपा के आगे हाथ फैलाया।

जमीनी हकीकत बताती है कि अन्नू टंडन का जनाधार एकदम ख़त्म हो चुका है। अन्नू टंडन जब सांसद बनी थीं तो क्षेत्र में समय बिताना एकदम छोड़ चुकी थीं। इसलिए बहुत सारे लोग खासकर युवा वर्ग तो उनको जानता तक नहीं है।

बांगरमऊ में अभी जमीन पर दो – तीन बातें बहुत चल रही हैं। एक तरफ लोग कह रहे हैं कि अन्नू टंडन कांग्रेस प्रत्याशी आरती बाजपेई की जीत पचा नहीं पा रही हैं इसलिए उन्होंने भाजपा और सपा दोनों पार्टियों से उनको हराने के लिए सांठ – गांठ की कोशिश की और अंत में बांगरमऊ में तीसरे नम्बर की पार्टी सपा ज्वाइन की।

दूसरी तरफ सपा कार्यकर्ताओं में इस बात का रोष है कि एक तरफ तो सपा ने अपने योग्य प्रत्याशी बदलू खान का टिकट काट दिया और धनबल पर सुरेश पाल को टिकट दिया और अब इज्जत बचाने के लिए दलबदलुओं को पार्टी में लाने की कोशिश कर रही है।

“बदलू खान से गद्दारी और अन्नू टंडन से यारी”: जमीन से उठ रही हैं सपा के खिलाफ कुछ ऐसी आवाजें

सपा के खेमे में अन्नू टंडन की ज्वाइनिंग को लेकर कोई उत्साह नहीं है। वहां नारे लग रहे हैं, “बदलू खान से गद्दारी और अन्नू टंडन से यारी”

नाम न छापने की शर्त पर एक सपा कार्यकर्ता ने बताया कि अन्नू टंडन का कोई जनाधार नहीं है। वो तो भाजपा में जाने की भी सोच रही थीं। जब वहां भाव नहीं मिला तो अब यहां आ गईं हैं। लेकिन हालत देखिए कि सपा ने अपने घर के प्रत्याशी का अपमान किया और पस्त जनाधार वाले बाहर के लोगों को शामिल कर रहे हैं।

बांगरमऊ में कई लोगों ने बताया कि सपा लास्ट मिनट पर कन्फ्यूजन खड़ा करना चाहती है लेकिन जनता यहां कांग्रेस प्रत्याशी के समर्थन में साफ मन बना चुकी है। सपा के कन्फ्यूज़न फैलाने से भाजपा को फायदा होगा और उसकी स्थिति मजबूत होगी। इसलिए क्षेत्र की जनता अब खुद ही उतर के कांग्रेस प्रत्याशी को जिताने की अपील कर रही है।



डिस्क्लेमर :इस आलेख में व्यक्त राय लेखक की निजी राय है। लेख में प्रदर्शित तथ्य और विचार से UPTRIBUNE.com सहमती नहीं रखता और न ही जिम्मेदार है
SHARE

आपकी प्रतिक्रिया