नई दिल्ली। सोमवार से देश भर के सभी पेट्रोल पम्प पर डेबिट और क्रेडिट कार्ड से भुगतान स्वीकार नहीं करेंगे। यह फैसला बैंकों की ओर से उपभोक्ताओं के बजाय उन पर ट्रांजेक्शन चार्ज लगाने के विरोध में किया है।

नोटबंदी के बाद कैशलेस लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने कार्ड से ईंधन की खरीद पर उपभोक्ताओं से वसूला जाने वाला मर्चेंट डिस्काउंट रेट (एमडीआर) को खत्म कर दिया था। लेकिन ५० दिनों की अवधि खत्म होने के बाद बैंकों ने एमडीआर पेट्रोल पंप मालिकों से वसूलने का फ़ैसला किया हैं।

पेट्रोल पंप मालिक संघों ने कहा कि उन्हें एचडीएफसी बैंक की तरफ से सूचित किया गया है कि नौ जनवरी २०१७ से क्रेडिट कार्ड से होने वाले सभी लेनदेन पर एक फीसदी और और डेबिट कार्ड से लेनदेन पर ०.२५ से लेकर एक फीसदी तक चार्ज वसूला जाएगा। इस दर से पेट्रोल पंप मालिकों के खाते से राशि काट ली जाएगी और शुद्ध ट्रांजेक्शन मूल्य उनके खाते में जमा कर दी जाएगी।

एसोसिएशन के रवि शिंदे ने बताया कि मीटिंग में इस बात का फैसला सर्वसम्मति से लिया गया है। शिंदे ने कहा, इस वक़्त देश भर के पेट्रोल पंपो पर सबसे ज्यादा एचडीएफसी बैंक की स्वाइप मशीन का प्रयोग किया जा रहा है। एचडीएफसी बैंक से सरचार्ज घटाने के लिए कहा गया था, लेकिन बैंक ने इसको स्वीकार नहीं किया।



डिस्क्लेमर :इस आलेख में व्यक्त राय लेखक की निजी राय है। लेख में प्रदर्शित तथ्य और विचार से UPTRIBUNE.com सहमती नहीं रखता और न ही जिम्मेदार है
SOURCEAU
SHARE

आपकी प्रतिक्रिया