मध्यप्रदेश से गुजरते हैं 18 राष्ट्रीय राजमार्ग, लंबाई 4709 किमी, इसमें 2700 किमी से ज्यादा मार्ग की हालत जर्जर

– देशभर में 200 राष्ट्रीय राजमार्ग हैं, जिनमें से 18 मध्यप्रदेश से गुजरते हैं। इनकी लंबाई करीब  4709 किमी है, जिनमें से 2700 किमी मार्ग की हालत जर्जर है।

– प्रदेश में 61 हजार किमी लंबी सड़कें हैं, जिनमें से 14778 किमी सड़कें खराब। इन सड़कों पर पांच साल में 3700 से ज्यादा हादसे हुए।

 

– राजधानी से गुजरने वाले  एनएच-12 की भोपाल से जबलपुर के बीच 321 किमी लंबी सड़क में से 297 किमी की हालत खराब है।

– प्रदेश के सबसे व्यस्ततम राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक-3 आगरा-मुंबई प्रदेश में 500 किमी से ज्यादा खराब है, जिस पर बमुश्किल वाहन चलते हैं।

– राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक-7 की रीवा से नागपुर के बीच हालत बेहद खराब है।

2017 में गड्‌ढों ने सबसे ज्यादा 3597 लोगों की ली जान

2013 2014 2015 2016 2017
आतंकी हमले में 303 407 181 30 40
गड्ढों से मौत  2614 3039 3416 2324 3597

 

भोपाल : 2017 में 77 हादसे… हर चौथा हादसा जानलेवा
खराब सड़क के कारण होने वाली हर चौथी दुर्घटना जानलेवा होती है। मौतों का यह ग्राफ अन्य किसी भी कारण से होने वाली दुर्घटना से ज्यादा है। भोपाल ट्रैफिक पुलिस की वर्ष 2017 में दुर्घटना पर की गई विस्तृत रिसर्च रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है। 2017 में खराब सड़क (गड्‌ढों) के कारण कुल 77 दुर्घटना हुईं। इनमें 30 लोग घायल हुए थे, जबकि 19 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी।

सुप्रीम कोर्ट ने देशभर में सड़कों पर गड्‌ढों के कारण हो रहे हादसों में होने वाली मौतों पर चिंता व्यक्त की है। उसने कहा कि गड्ढों के कारण होने वाली सड़क दुर्घटनाओं में मौतों(5 साल में 15000) की संख्या आतंकी हमलों में होने वाली मौतों (961) से कहीं ज्यादा है। जस्टिस मदन बी लोकुर और दीपक गुप्ता की बेंच ने कहा कि सड़कों में गड्ढ़ों के कारण दुर्घटना में मारे जाने वाले लोगों के परिजन को मुआवजे का हक होना चाहिए।

इस स्थिति को भयावह बताते हुए बेंच ने कहा कि यह मामला किसी इंसान की जिंदगी और मौत से जुड़े गहरे सवाल की ओर इशारा करता है। बेंच ने इस मामले में सुप्रीम कोर्ट की समिति को सड़क सुरक्षा पर दो सप्ताह के भीतर विस्तृत रिपोर्ट पेश करने को कहा है। सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस केएस राधाकृष्णन की अध्यक्षता में सड़क सुरक्षा पर समिति गठित की गई है। इस साल की शुरुआत में आई एक रिपोर्ट के अनुसार सड़कों में गड्ढों की वजह से हुई दुर्घटनाओं में पिछले पांच साल में 15 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हुई हैं।



डिस्क्लेमर :इस आलेख में व्यक्त राय लेखक की निजी राय है। लेख में प्रदर्शित तथ्य और विचार से UPTRIBUNE.com सहमती नहीं रखता और न ही जिम्मेदार है
SHARE

आपकी प्रतिक्रिया