पटियाला। पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने सोमावार को एक बार फिर कहा कि नवजोत सिंह सिद्धू तथा आवाज-ए-पंजाब राजनीतिक मोर्चे के अन्य नेताओं के कांगे्रस में शामिल होने को लेकर कोई रोक नहीं है। अमरिंदर ने कहा कि उन्होंने हर बार कहा है कांग्रेस की नीतियों से इत्तेफाक रखने वाले सिद्धू तथा अन्य नेताओं का पार्टी में स्वागत है। अमरिंदर ने कहा, मैं नहीं जानता कि यह सवाल मुझसे बार-बार क्यों पूछा जाता है। इस मुद्दे पर उनका रुख शुरुआत से ही स्पष्ट रहा है।

phpthumb_generated_thumbnail-8

उन्होंने कहा, जब सिद्धू ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से इस्तीफा दिया था, तब शायद मैं वह पहला व्यक्ति था, जिसने कहा था कि उन्हें कांग्रेस में शामिल होना चाहिए। चाहे वह सिद्धू हों या बैंस ब्रदर या परगट सिंह, उनके लिए मेरी पार्टी के दरवाजे हमेशा खुले हैं। उन्होंने कहा कि वे ऐसे लोग हैं, जिनकी जड़ें कांग्रेस में रही हैं और वे बहुत ज्यादा दिनों तक कांग्रेस से अलग नहीं रह सकते।

इस साल जुलाई में जिस वक्त सिद्धू ने राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा दिया था, अमरिंद ने कहा था कि सिद्धू के पिता पटियाला जिले में कांग्रेस के नेता थे और पूर्व क्रिकेटर को कांग्रेस में शामिल होना चाहिए। अमरिंदर ने कहा, मुद्दे पर मेरा रुख हमेशा स्पष्ट रहा है और स्पष्ट रूप से अस्पष्टता की कोई गुंजाइश नहीं है। अंतत: पार्टी का हित सर्वोच्च होता है। और यदि समान विचारधारा रखने वाले लोगों से पार्टी मजबूत होती है, तो हम इस तरह के घटनाक्रमों से केवल फायदा ले सकते हैं।

पंजाब में विधानसभा चुनाव अगले साल जनवरी-फरवरी में होने हैं। कांग्रेस तथा आप सत्तारूढ़ शिरोमणि अकाली दल-भाजपा गठबंधन को चुनौती देने का प्रयास कर रही है, जो साल 2007 से ही सत्तासीन है।



डिस्क्लेमर :इस आलेख में व्यक्त राय लेखक की निजी राय है। लेख में प्रदर्शित तथ्य और विचार से UPTRIBUNE.com सहमती नहीं रखता और न ही जिम्मेदार है
SHARE

आपकी प्रतिक्रिया