नई दिल्ली ।। कोंग्रेस पार्टी ने प्रेस कॉन्फ़्रेन्स करके मोदी सरकार पर आरोप लगाया कि राफ़ेल ख़रीदी में नियमों को ताक पर रखा गया और कुछ उद्योगपतियों को फ़ायदा पहुँचाया गया।

कोंग्रेस की तरफ़ से रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्फ़्रेन्स करके बताया की राफ़ेल लड़ाकू विमान सुरक्षा की दृष्टि बहुत ही अहम हैं। परंतु मोदी सरकार ने नियमो की अनदेखी की और बिना क़ेबिनेट और सुरक्षा कमेटी की अनुमति लिए बिना राफ़ेल सौदा किया हैं।

सुरजेवाला ने कहा की यूपीए नीत सरकार ने 2007 में फ़्रान्स के साथ 129 विमानों का सौदा 54000 करोड़ में 136 विमान का सौदा किया था। और टेक्नोलोजी ट्रान्स्फ़र की डील फ़ाइनल हुई थी।

परंतु 2012 के फ़्रान्स दौरे पर प्रधानमंत्री मोदी ने केवल 36 विमान का सौदा 60000 करोड़ में किया, और टेक्नॉलजी ट्रान्स्फ़र की भी कोई बात नहि हुई।

सुरजेवाला ने  कहा कि प्रधानमंत्री ने ख़रीदी की पारदर्शिता को तक पर रख कर इस सौदे को किया गया। सुरजेवाला ने कहा इस डील में सरकार ने सरकारी कम्पनी हिंदुस्तान ऐरोनोटिकल लिमिटेड को जो फ़ायदा मिलना चाहिए था, उस फ़ायदे को देश की कुछ निजी संस्थाओं को दिया गया । इस पूरे सौदे में सरकारी ख़ज़ाने को भी भारी नुक़सान हैं।



डिस्क्लेमर :इस आलेख में व्यक्त राय लेखक की निजी राय है। लेख में प्रदर्शित तथ्य और विचार से UPTRIBUNE.com सहमती नहीं रखता और न ही जिम्मेदार है
SHARE

आपकी प्रतिक्रिया