भारत को मोबाइल मैन्युफैक्चरिंग हब बनाने की सरकार की महत्वाकांक्षी योजना तैयार।

मोबाइल और उसके कम्पोनेन्ट के उत्पादन का केंद्र भारत में बनाने के लिए सरकार ने 42000 करोड़ इंसेंटिव की महत्वकांक्षी योजना आईटी मिनिस्ट्री ने वित्त, वाणिज्य मंत्रालय एवं नीति आयोग के साथ मिलकर बनाई है।

इस प्लान के तहत जहां मोबाइल के दिग्गज एप्पल , सैमसंग आदि लाभान्वित होंगे घरेलू ब्रांड माइक्रोमैक्स, लावा, कार्बन जैसी कंपनियों को जबरदस्त बढ़ावा मिलेगा।

इतना ही नहीं मोबाइल और एसेसरीज के मार्केटिंग और शोरूम में लगे लोग भी इस इंसेंटिव में कवर होंगे।

वैसे तो अपने देश में लगभग सभी ब्रांड्स असेम्बली कर रहे है, पर इस योजना के तहत कंपोनेंट्स के उत्पादन को बहुत बढ़ावा मिलेगा जिससे उनके इंपोर्ट में बहुत कमी आ जाएगी।

कॉरॉना और चीन की नीतियों के कारण कई बड़े ब्रांड वैकल्पिक मैन्युफैक्चरिंग हब की तलाश में है, ऐसे में भारत उनके लिए एक सुरक्षित और एक बड़े उपभोक्ता वाला केंद्र साबित होगा।



डिस्क्लेमर :इस आलेख में व्यक्त राय लेखक की निजी राय है। लेख में प्रदर्शित तथ्य और विचार से UPTRIBUNE.com सहमती नहीं रखता और न ही जिम्मेदार है
SHARE

आपकी प्रतिक्रिया