कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने उत्तरी कर्नाटक में एक रैली को संबोधित करते हुए मोदी जी से आतंकवाद , मसूद अज़हर और IC814 कंधार हाईजैकिंग के विषय पर तीखे सवाल किये. उनहोंने सवाल किया की नरेंद्र मोदी उन्हें समझाएं कि सन 1999 में आतंकवादी मसूद अजहर को भारतीय जेल से पाकिस्तान किसने भेजा ,सीआरपीएफ जवानों को किसने मारा? जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख का नाम क्या है? मोदी पर सीधे प्रहार करते हुए राहुल गाँधी ने पूछा की  “आप इसके बारे में क्यों नहीं बोल रहे.आप क्यों नहीं कह रहे कि जिस व्यक्ति ने सीआरपीएफ जवानों को मारा उसे भाजपा ने पाकिस्तान भेजा था. मोदीजी हम आपकी तरह नहीं हैं. हम आतंक के सामने नहीं झुकते हैं. भारत के लोगों के सामने साफ कीजिए कि किसने मसूद अजहर को भेजा था.”

कांग्रेस अध्यक्ष द्वारा पूछे गये इन तीखे सवालों पर सियासी बवाल खड़ा होना और भाजपा के विभिन्न नेताओं का बयानी पलटवार आना तो लाज़मी था पर इसी सन्दर्भ में कर्नाटका के शेत्रिय अंग्रेजी न्यूज़ चैनल NEWS9 द्वारा करवाए ऑनलाइन ट्विटर पोल के परिणाम काफी चौकाने वाले थे  .

इस ऑनलाइन ट्विटर पोल में 5100 से भी अधिक यूज़र्स ने हिस्सा लिया , इस ट्विटर पोल का सवाल था की क्या राहुल गाँधी द्वारा भाजपा पर मसूद अज़हर की रिहाई के सन्दर्भ में लगाए गये आरोप वैध है अर्थार्त जायज़ और वास्तविक है ?

और इस ट्विटर पोल के परिणाम काफी चौकाने वाले और मोदी भक्तों के बिच सियासी हड़कम्प पैदा करने वाले थे क्यूंकि 91 प्रतिशत यूज़र्स यानी की तकरीबन 4724 यूज़र्स ने इस ट्विटर पोल में राहुल गाँधी के आरोपों को वैध अर्थार्त जायज़ ठराया . इस ट्विटर पोल ने ये स्पष्ट संकेत दिया की पुलवामा आतंकवादी हमले पर सरकार की जवाबदेही अभी “गायब ” नहीं हुई है जैसे रफेल डील के कागज़ गायब हो जाते हैं . राहुल गाँधी द्वारा लगाए गये आरोपों को इस ट्विटर पोल के परिणामो ने जायज़ और वैध ठराया है और भाजपा की वाजपयी और मोदी सरकार के शासन में घटित हुए कंधार घटनाक्रम और पुलवामा आतंकवादी हमले से जुड़ी नीतिगत विफलता को भी फिर से उजागर किया है . स्पष्ट है, जनता इस मीडिया और सोशल मीडिया के हल्ले गुल्ले और उन्माद से परे जाकर सरकार को अपनी नीतिगत विफलताओं के सन्दर्भ में सवालों के कठघरे में खड़ा करने के मूड में है . ये पब्लिक है ये सब जानती है . जनता जनार्दन है .

 

 

 

 

 



डिस्क्लेमर :इस आलेख में व्यक्त राय लेखक की निजी राय है। लेख में प्रदर्शित तथ्य और विचार से UPTRIBUNE.com सहमती नहीं रखता और न ही जिम्मेदार है

आपकी प्रतिक्रिया