जारी हुए देश के सबसे विश्वसनीय माने जाने वाले एग्ज़िट पोल के नतीजे –

2019 के हरियाणा विधानसभा चुनाव से जुड़े इंडिया टुडे-एक्सिस माई इंडिया पोल के नतीजे हुए प्रकाशित

इस एग्ज़िट पोल के मुताबिक भाजपा को मिल रही है 32 से 44 सीटे और कांग्रेस को मिल रही है 30 से 42 सीटें .दोनो पार्टियों में हरियाणा में वर्चस्व ले लिए कांटे की टक्कर है . अगर पार्टी का वोट शेयर देखें तो कांग्रेस को मिल रहे है 32 प्रतिशत वोट और भाजपा को मिल रहे है 33 प्रतिशत वोट , वही JJP को मिल 14 प्रतिशत वोट और 6 से 10 सीटों के साथ हो निभा सकती है किंग मेकर की भूमिका . “अन्य” उम्मीदवारों भी रेस में पीछे नही है और 21 सीट अन्य उम्मीदवारों के खाते में जा सकती है . सूत्रों के मुताबिक इन “अन्य” उम्मीदवारों में बहुत से ऐसे उम्मीदवार भी है जो दिग्गज कांग्रेस नेता एवम हरियाणा कांग्रेस विधायक दल के नेता चौधरी भूपेंद्र सिंह हुड्डा के करीबी माने जाते हैं.

https://twitter.com/IndiaToday/status/1186640892108521473?s=19

 

सूत्रों के मुताबिक ये चुनावी सर्वे दो कारणों से बाकी के एग्ज़िट पोल्स से ज़्यादा अधिक विश्वसनीय इसलिए हो जाता है क्योंकि ➡ 1. चुनावो के बाद राजनैतिक गलियारों में एवम सोशल मीडिया पर दबी जुबान में कुछ इस प्रकार के आँकड़े ही साझा हो रहे थे ,

➡ 2. इस इंडिया टुडे-एक्सिस माई इंडिया पोल का 2019 लोकसभा चुनाव का चुनावी सर्वे एक दम सटीक रहा था.

बाकी असली आँकड़े तो वोटिंग मशीन 24 तारीख को दिखा ही देगी . अगर आँकड़े गलत हुए तो माफ कर दीजिएगा और आँकड़े सही हो जाए तो शाबाशी दे दीजिएगा . जनता जनार्दन है जनाब ,जैसा जनादेश होगा स्वीकार करना पड़ेगा .

खैर,चुनावों में हार हो या जीत तो होती रहती है पर प्रदेश की जनता में वोटिंग मशीन की विश्वनीयता को लेकर दबी जुबान में लगातार सवाल उठ रहे है और चुनाव आयोग की विश्वसनीयता पर भी दबी जुबान में सवाल खड़े हो रहे हैं. दी क्विंट मीडिया हॉउस की इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन पर आई ताज़ा रिपोर्ट पूरी चुनावी प्रक्रिया , ईवीएम और चुनाव आयोग की विश्वसनीयता पर गंभीर सवाल खड़े करती है . सरकार आती जाती रहती है पर ये प्रजातंत्र एक अदृश्य विश्वास पर टिका है जो पिछले 70 सालों में विकसित हुआ है. शायद ये ही हमारी 70 सालों की सबसे बड़ी अमानत है . इसे लापता ना होने दे…



डिस्क्लेमर :इस आलेख में व्यक्त राय लेखक की निजी राय है। लेख में प्रदर्शित तथ्य और विचार से UPTRIBUNE.com सहमती नहीं रखता और न ही जिम्मेदार है

आपकी प्रतिक्रिया