लाइमलाइट से दूर रहते हुए भी प्रियंका जी सभी के दिलों में छा गई,


डेढ़ महीने पहले ही ऑफिशियली राजनीति में आने वाली प्रियंका गांधी गुजरात में हुई कांग्रेस वर्किंग कमिटी में आकर्षण का केंद्र बनी रही , दूसरी ओर प्रियंकाजी ने जनरल सेक्रेटरी होद्दे के पीछे लगी हुई सरनेम को कभी भी हावी होने नहीं दिया, चाहे वह साबरमती आश्रम में हुई प्रार्थना सभा हो या कोंग्रेस वर्किंग कमिटीकी ग्रुप फोटो , प्रियंकाजी हर बार पीछे रहे और पार्टी में मिले अपने पद का और पार्टी। के सिनियर नेताओका मान सम्मान रखा ।

प्रियंका गांधी महासचिव के पद के अनुसार ही प्रार्थना सभा और फोटो सेशन में चौथी लाइन में ही बैठे ।।।
कल सुबह जब कांग्रेस की सीडब्ल्यूसी की मीटिंग के लिए सब नेता पहुंचे तभी से प्रियंका गांधी आकर्षण का केंद्र रही , जब वह बस में बैठी तभी वहां उपस्थित सभी कार्यकरोने सबसे ज्यादा प्रियंका गांधी के नाम के नारे लगाए , उन्होंने भी कार्य करो को निराश नहीं किया और बस में से ही प्यारी सी मुस्कान देकर हाथ हिलाकर कार्यकर्ताओं का जोश बढ़ाया ।

सुबह में गांधी आश्रम में प्रार्थना सभा में विविध राज्यों के कांग्रेस महासचिव ओं की जो चौथी लाइन थी उसमें ही प्रियंका गांधी बैठी थी, जबकि उनके भाई और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और मां सोनिया गांधी पहली लाइन में बैठे हुए थे, उसके बाद हुए कांग्रेस वर्किंग कमिटी के फोटो सेशन में भी वह पांचवें स्थान पर रही , इस तरह लाइम लाइट से दूर रहने के बावजूद भी प्रियंका गांधी पूरी मीटिंग में छा गई यही बात की चर्चा पूरे गुजरात में ही नहीं पूरे देश में हो रही है ।।

सीडब्ल्यूसी की मीटिंग में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व पिएम मनमोहन सिंह, खजांची अहमद पटेल, पी चिदंबरम, ए.के. एंटोनी, अंबिका सोनी, गुलाम नबी आजाद, मोतीलाल वोरा, मलिकार्जुन खरगे,अशोक गहलोत, आनंद शर्मा, ओमान चंडी, तरुण गोगोई, हरीश रावत, सिद्धारमैया, मुकुल वासनिक, ज्योतिरादित्य सिंधिया, पीसी चाको, जितेंद्र सिंह, पीएल पुनिया और शक्तिसिह गोहिल जैसे टोच के नेता उपस्थित रहे थे ।।।



डिस्क्लेमर :इस आलेख में व्यक्त राय लेखक की निजी राय है। लेख में प्रदर्शित तथ्य और विचार से UPTRIBUNE.com सहमती नहीं रखता और न ही जिम्मेदार है
SHARE

आपकी प्रतिक्रिया