कहते है कि आम का पेड़ बोने के बाद पुश्तों तक फायदा होता है। नेहरू जी के दूरदर्शी करमों का फल निश्चित रूप से आज भारत की जनता को मिला है। हाल ही कि हुई घटनाओं पर ध्यान दे तो आपको यह ज्ञात होगा कि भारत के द्वारा पाकिस्तान पर की गई करवाई के बदले में पाकिस्तान का F-16 भारतीय सीमा में घुस आया था, उन्हें खदेड़ने के लिए भारत के विमान दुर्घटना ग्रस्त हो गए।

इस करवाई के फलस्वरूप भारतीय विमान के पायलट W C अभिनंदन पकिस्तानी सीमा में दुर्घटना ग्रस्त हो गए जहां उन्हें पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा गिरफ्त में ले लिया गया। भारतीय जनता व सैनिकों के लिए यह एक दुःखद वक़्त था। जब हमारे ही सेना का जवान पाकिस्तान कि सेना के गिरफ्त में आ चुका था। हमारे सूत्रों से हमे यह भी ज्ञात हुआ की जब यह घटनाएं हो रही थी एवं हमारे जाबांज़ सैनिक सीमा पर जान पर खेल रहे थे तब हमारे प्रधानमंत्री जी 27 फ़रवरी को ‘खेलो इंडिया ऐप’ लॉन्च कर रहे थे। खैर हाल ही हमें हमारे सूत्रों से यह सूचना प्राप्त हुई है कि पाकिस्तान के PM इमरान खान ने भारतीय विंग कमांडर अभिनंदन को रिहा करने का एलान करा है, जिससे भारतीय लोगों में हर्ष व उल्लास की लहर दौड़ पड़ी है।

पर हमें यह भी ज्ञात रहना चाहिये कि हमारे देश को आज़ाद कराने वाले महान नेताओं की मेहनत का फल सिर्फ हमे आज़ादी के रूप में ही नही मिला, बल्कि हमारे सैनिक की रिहाई की रूप में हमें आज भी मिल रहा है। बात है जेनेवा कन्वेंशन की। मोटे शब्दों में इसके तहत युद्धबंदियों की रिहाई व उनके हकों को निश्चित करता है। आपको यह भी ज्ञात होन चाहिये कि इस ट्रीटी पर दूरदर्शी सोच से दस्ताख़त किये, जिसके तहत आज अभिनंदन को पाकिस्तान ने शांति के संदेश के नाम पर छोड़ा है। यह वक्तव्य हमें बताता है को हमारे पास ऐसे नेता रह चुके हैं जो भाषण और वाचाल प्रकृति से दूर कार्य करने में विश्वास रखते थे, जिनके परिणाम हमें आज भी मिल रहे हैं।

यह भी ज्ञात है कि जब मोदी जी अपने कार्यरणी से कथित सबसे बड़ी वीडियो ब्रीफिंग कर रहे थे एवं BJP ट्विटर पर #MeraBoothSabseMajboot ट्रेंड कर रहे थे तब लोगों का गुस्सा फूट पड़ा एवं लोगों ने इसके जवाब में लोगों ने #MeraJawanSabseMajoboot ट्रेंड का यूज़ करके BJP को जवाब दिया।

अब यह देखना निश्चित ही मनोरंजक होगा कि हमारे प्रधानमंत्री जी चुनावी रैलियों में सेना को कितना श्रेय देते है, व खुद की पीठ कितनी बार थपथपाते है।

जय हिंद! जय भारत!



डिस्क्लेमर :इस आलेख में व्यक्त राय लेखक की निजी राय है। लेख में प्रदर्शित तथ्य और विचार से UPTRIBUNE.com सहमती नहीं रखता और न ही जिम्मेदार है
SHARE

आपकी प्रतिक्रिया