बालाकोट सर्जिकल स्ट्राइक के बाद जहाँ पूरा देश हमारी वायुसेना की पीठ थपथपा रहा था , वहीं दूसरी तरफ गोदी मीडिया,मोदी सरकार से पुलवामा हमले पर नीतिगत विफलता से जुड़े मुश्किल सवाल पूछने के बजाय देश के वामपंथियों , देश के बुद्धिजीवियों ,राजनैतिक विपक्ष एवं जे.एन.यू के छात्रों को कोसने और देश द्रोही घोषित करने में व्यस्त था . पुलवामा आतंकवादी हमले और बालाकोट सर्जिकल स्ट्राइक के बाद गोदी मीडिया ने अपने टीवी स्टूडियो के माध्यम से मोदी भक्ति , युद्धोन्माद , नफरत और देश द्रोह के प्रमाणपत्र बाटने में कोई कसर नहीं छोड़ी . मोदी सरकार की कश्मीर और आतंकवाद के विषय पर हो रही “नीतिगत विफलता” पर सवाल पूछना मानो एक अपराध था.

पर जब मीडिया ने ही सरकार से सवाल पूछना बंद तब इस देश की चुप बैठी जनता ने उन्हें करारा जवाब देना शुरू किया और जनता ने दिखाई विपक्ष के साथ एक तरफा-एक जुटता और वो भी बड़े ही अनोखे अंदाज़ में . दिनांक 7 मार्च को गोदी मीडिया न्यूज़ चैनल “रिपब्लिक “ ने हमारे देश के राजनैतिक विपक्ष को ही “पाकिस्तानी” घोषित कर दिया .वैसे मोदी सरकार की गोद में बैठे इस गोदी मीडिया ने देश में मौजूदा राजनैतिक विपक्ष को कठघरे में खड़े करने में और उन्हें देशद्रोही घोषित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है और मोदी सरकार की नीतिगत विफलताओ पर चयनात्मक चुप्पी साध कर नरेंद्र मोदी सरकार के प्रोपगैंडा को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से गोदी मीडिया ने बखूभी फैलाया है .

इसी मोदी सरकार के प्रोपगैंडा के तहत जब 7 मार्च को गोदी मीडिया न्यूज़ चैनल “रिपब्लिक “ ने अपनी मोदी भक्ति , युद्धोन्माद और नफरत भरी टीवी स्टूडियो की रात 9 बजे वाली जहरीली चर्चाओं के दौरान ट्विटर पर एक विपक्ष पर निशाना साधते हुए एक ट्विटर पोल का आयोजन किया . जिसमे सवाल किया गया की क्या “इस देश का विपक्ष आतंकवाद पर चुप्पी साध कर पाकिस्तान की भाषा बोल रहा है या पाकिस्तान के नज़रिए को स्वीकार कर रहा है ?” – हाँ या ना . अक्सर गोदी मीडिया न्यूज़ चैनल “रिपब्लिक “ द्वारा आयोजित करवाए गए ट्विटर पोल के नतीजे मोदी सरकार और भाजपा के पक्ष में ही दीखते थे पर इस बार इस ट्विटर पोल के जो नतीजे आए वो केवल चौकाने वाले ही नही बल्कि गोदी मीडिया के मुह पर एक तमाचा भी थे . इस ट्विटर पोल में देश की जनता , एकतरफा देश के राजनैतिक विपक्ष के साथ खड़ी नज़र दिखी .

इस ट्विटर पोल में 10501 ट्विटर यूज़र्स ने हिस्सा लिया और 67 प्रतिशत ट्विटर यूज़र्स ने कहा की विपक्ष आतंकवाद के विषय पर पाकिस्तान की भाषा नहीं  बोल रहा है . केवल 33 प्रतिशत लोग विपक्ष पर ऊँगली उठाते दिखे . यानि की 7036 ट्विटर यूज़र्स देश के राजनैतिक विपक्ष को देश भक्त मानते है और आतंकवाद के विषय पर उनकी नीतियों और राजनैतिक विचारों को पाकिस्तान हितैषी ना मानते हुए उल्टा उनसे सहमत नज़र आए.

स्पस्ट है इस देश की जनता मोदी सरकार के इशारों पर चलने वाले गोदी मीडिया प्रोपगैंडा को समझ चुकी है और मौका पड़ने पर सरकार और गोदी मीडिया को सोशल मीडिया पर इन ट्विटर पोल्स के माध्यम से इनकी राजनैतिक हेकड़ी पर तमाचा जड़ने का और वास्तविकता का एहसास कराने का कोई भी मौका नही छोड़ रहे है . बाकि जनता जनार्दन और ये पब्लिक है ये सब जानती है .

 



डिस्क्लेमर :इस आलेख में व्यक्त राय लेखक की निजी राय है। लेख में प्रदर्शित तथ्य और विचार से UPTRIBUNE.com सहमती नहीं रखता और न ही जिम्मेदार है

आपकी प्रतिक्रिया