• पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए जबलपुर के खुड़ावल गांव के अश्विनी काछी अपने गांव के तीसरे वीर सपूत है. जिस गांव से अश्विनी आते हैं, उसका इतिहात गौरवान्वित करने वाला है. इस गांव के हर दसवें घर में एक भारतीय सेना का एक जवान पैदा होता है. 3000 की आबादी वाले इस गांव से अब तक कई जवान देश के लिए अपनी सेवाएं दे चुके हैं. वर्तमान में इस गांव के 32 जवान देश के विभिन्न हिस्सों में अपना सेवा दे रहा है. अश्विनी इस गांव की तीसरा सपूत है जो देश के लिए शहीद हो गया है. खुड़ावल गांव से अब तक 100 से भी ज्यादा जवान सैना में अपनी सेवाएं चुके हैं. साल 2016 में इस गांव के रामेश्वर कुपवाड़ा में शहीद हो गए थे, और 2006 में गांव के ही गजेंद्र प्रसाद बालाघाट में नक्सली मुठभेड़ में वीर गति को प्राप्त हुए थे



डिस्क्लेमर :इस आलेख में व्यक्त राय लेखक की निजी राय है। लेख में प्रदर्शित तथ्य और विचार से UPTRIBUNE.com सहमती नहीं रखता और न ही जिम्मेदार है
SHARE

आपकी प्रतिक्रिया