केंद्र सरकार की ओर से नोटों को रद्द करने से देश को हुए नुकसान की भरपाई करवाने के लिए अखिल भारतीय कांग्रेस समिति आगामी जनवरी में देश भर में पैट चलाएगी. काॅग्रेस मीडिया सेल के प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला ने अाज यहां संवाददाताओं को यह सूचना देते हुए कहा कि तीन चरणों में आयोजित इसकी शुरुआत छह जनवरी से है।

आंदोलन के पहले चरण में देश भर में जिला हेडक्वाटर पर कार्यकर्ता धरना और प्रदर्शन करेंगे। इसके बाद नौ जनवरी से महिला कांग्रेस और जिला कांग्रेस कमेटियों के सहयोग से किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पार्टी की ओर से आयोजित किए जाने वाली तीसरे चरण के कार्यक्रम की घोषणा बाद में की जाएगी।
श्री सुरजेवाला ने कहा कि इस जनआंदोलन को प्रभावी बनाने के लिए एक केंद्रीय समिति का गठन किया गया है। इसके अलावा राज्य में अन्य राज्यों के अधिकारियों के साथ एक समन्वय समिति का गठन किया गया है जो राज्यों में इस आंदोलन को प्रभावी बनाने के लिए कार्यक्रम तय करेगी. काॅग्रेस द्वारा चलाई जाने वाली देश भर में बड़े पैमाने पर आंदोलन में गैर बीजेपी विपक्षी दलों को साथ लेने के सवाल पर उन्होंने कहा कि राज्य स्तर पर विभिन्न राजनीतिक संगठनों के सैद्धांतिक और संवैधानिक मतभेद के बावजूद नोटबंदी के मुद्दे पर कांग्रेस के नेतृत्व में 18 दलों ने सहयोग किया था।

उन्होंने कहा कि गैर भाजपा दलों और कांग्रेस के बीच भले ही सैद्धांतिक और वैचारिक मतभेद है और इलाके में राजनीतिक गतिरोध और रास्ता अलग होने के बावजूद दोनों की मंजिल एक ही है। श्री सुरजेवाला ने कहा कि पार्टी द्वारा आयोजित की जाने वाली इस जन आंदोलन में पांच प्रमुख मांग किए गए हैं।

इसमें जनता द्वारा बैंकों में जमा राशि निकालने की अनुमति देने, पैसा निकालने पर लगी पाबंदी हटाने, प्रतिबंध के कारण बैंकों में जमा राशि पर 18 प्रतिशत की दर से ब्याज देने, नोटबंदी कारण किसानों की फसल को हुए नुकसान को देखते हुए उसकी फसल का न्यूनतम सहारा मूल्य के 20 प्रतिशत अधिक बोनस देने और मनरेगा मजदूरों के साथ ही बेरोजगार हुए लोगों को दैनिक दहाडी के बराबर बेरोजगारी भत्ता आगामी मार्च तक देने की मांग की गई है। इसके अलावा प्रभावित छोटे उद्योगों को राहत देने और गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन वाली महिलाओं को 25 हजार रुपये का भुगतान करने की मांग की गई है।



डिस्क्लेमर :इस आलेख में व्यक्त राय लेखक की निजी राय है। लेख में प्रदर्शित तथ्य और विचार से UPTRIBUNE.com सहमती नहीं रखता और न ही जिम्मेदार है
SHARE

आपकी प्रतिक्रिया