वाराणसी. भारत में गरीबों व असहारयों को अपना सर्वस्व जीवन न्यौछावर करने वाली करुणा और सेवा की देवी संत मदर टेरेसा को काशी की ओर से छोटी सी भेंट दी जा रही है। छावनी क्षेत्र की एक सड़क अब आधिकारिक रूप से मदर टेरेसा मार्ग के नाम से जानी जाएगी। उनके नाम पर सड़क का प्रस्ताव मदर टेरेसा को संत की उपाधि के दौरान ही लाया गया था।
 phpthumb_generated_thumbnail-23
एक नवंबर को छावनी प्रशासन व विशप हाउस संत फेस्टीवल का आयोजन करने जा रहा है। इस फेस्टीवल के दौरान छावनी क्षेत्र में डाक बंगला के समीप चौराहे पर संत मदर टेरेसा की प्रतिमा का अनावरण और मार्ग का नामकरण होगा। संत मदर टेरेसा को समर्पित इस फेस्टीवल को धूमधाम से मनाने की तैयारियां जोर-शोर से चल रही है।
छावनी क्षेत्र के वार्ड नंबर तीन के सदस्य राजकुमार दास की पहल पर छावनी प्रशासन और विशप हाउस की पहल पर छावनी परिषद ने मदर टेरेसा मार्ग के नाम के प्रस्ताव को पारित किया था जिसे सहर्ष स्वीकार कर लिया गया था। एक नवंबर को डाक बंगले के समीप आयोजित कार्यक्रम के दौरान दीपदान के साथ ही गरीब व असहाय लोगों को भोजन कराकर संत मदर टेरेसा को सच्ची श्रद्धांजलि दी जाएगी। इस मौके पर ममता सोनकर व युवा नेता दीपक कुमार की तरफ से योगशाला का आयोजन किया जा रहा है। मदर टेरेसा को समर्पित इस योगशाला में निर्धन वर्ग के लोगों को न्यूनतम फीस पर योग का प्रशिक्षण दिया जाएगा ताकि वे अपना भविष्य बेहतर बना सकें।


डिस्क्लेमर :इस आलेख में व्यक्त राय लेखक की निजी राय है। लेख में प्रदर्शित तथ्य और विचार से UPTRIBUNE.com सहमती नहीं रखता और न ही जिम्मेदार है
SHARE

आपकी प्रतिक्रिया