यूपी चुनाव के लिए कांग्रेस ने समाजवादी पार्टी से गठबंधन की खातिर 105 सीटें के साथ उप-मुख्यमंत्री पद की मांग कर रही है। सूत्रों ने बताया कि उप-मुख्यमंत्री पद की दावेदारी के जरिये वह खुद को चुनाव में मजबूत दावेदार दिखाना चाहती है। कांग्रेस नेताओं को लगता है कि मोदी सरकार के नोटबंदी के फैसले और उसके बाद लोगों को हो रही दिक्कत के चलते चुनाव मे अधिक मजबूत हुई है ।

उनके मुताबिक, बीजेपी को इसका नुकसान उठाना पड़ेगा। कांग्रेस का मानना है कि ऐसे में समाजवादी पार्टी और बीएसपी के लिए वह कहीं ज्यादा लोगो मे लोकप्रिय हुई है।

कांग्रेस के एक सीनियर लीडर ने कहा, ‘मुलायम सिंह की पार्टी जानती है कि कांग्रेस को पार्टनर बनाने पर बीजेपी के खिलाफ उसे यादव-मुस्लिम वोटरों को एकजुट करने में मदद मिलेगी। अगर बीएसपी हमारे साथ मिलकर चुनाव लड़ती है तो उसे भी दलित-मुस्लिम वोटरों को गोलबंद करने में मदद मिलेगी।’

राहुल गांधी के नेतृत्व में यूपी में कांग्रेस पार्टी को मजबूत करने की लंबे समय से कोशिशें चल रही है । इसी रणनीति के तहत यूपी में बीजेपी को हराने के लिए कांग्रेस अधिक जोर लगाना चाहती है । इसलिए सूबाई संगठन गठबंधन के लिए केंद्रीय नेतृत्व पर दबाव डाल रही है।



डिस्क्लेमर :इस आलेख में व्यक्त राय लेखक की निजी राय है। लेख में प्रदर्शित तथ्य और विचार से UPTRIBUNE.com सहमती नहीं रखता और न ही जिम्मेदार है

आपकी प्रतिक्रिया