⏺ मामला अकबरपुर नगर में 65 करोड़ की लागत से जलापूर्ति के लिए पाइप लाइन बिछाने का
⏺ सरकार को बदनाम करने में अधिकारियों के खिलाफ सीएम से करेंगे शिकायत-बाबा रामशब्द
अंबेडकरनगर। नगर पालिका अकबरपुर क्षेत्र में जल निगम द्वारा कराये जा रहे पाइप लाइन विस्तार में घोर अनियमितता की जा रही है जिसे लेकर भाजपा पिछड़ा वर्ग मोर्चा जिला महामंत्री नेे घपला घोटाला का आरोप लगाते हुये बताया कि भ्रष्टाचार मुक्त सरकार में कार्यदायी संस्था व पालिका प्रशासन का यह कृत्य बर्दास्त नहीं है जिसे सूबे के मुख्यमंत्री को शिकायती पत्र भेजकर संज्ञान में लायेंगे।
ज्ञात हो कि इस नगर पालिका के विभिन्न वार्डो में जलापूर्ति के लिए अमृत योजना से 65 करोड़ की लागत से पाइप लाइन का विस्तार कार्यदायी संस्था उ.प्र. जल निगम द्वारा कराया जा रहा है। इस योजना में शासन की मंशा है कि निकायों में जहां पेयजल समुचित ढंग से लोगों को आपूर्ति नहीं हो रही है वहां उपलब्ध कराने के लिए भारी भरकम धनराशि अवमुक्त किया गया है।
इसके क्रम में अकबरपुर में उक्त कार्यदायी संस्था 65 करोड़ की लागत से पाइप लाइन बिछा रही है किन्तु इसमें मानक की अनदेखी की जा रही है जिसमें भाजपा नेता का कहना है कि अमृत योजना में कार्यदायी संस्था को पाइप लाइन के विस्तार में मानक निर्धारित किया गया हैं। उन्होने बताया कि जेसीबी मशीन से खुदाई का प्राविधान नहीं है किन्तु वार्डो व मोहल्लों में प्रयोग हो रही है जिससे मार्ग क्षतिग्रस्त होता जा रहा है।
उन्होने बताया कि संघतिया, गोहन्ना, विजय गांव, पण्डाटोला, अमरौला व सिझौली समेत कई वार्ड इसकी नजीर हैं जिनमें बने सार्वजनिक मार्ग गड्ढों में बदल गये हंै इसका खामियाजा इन मार्गो से आने-जाने वाले स्थानीय व राहगीर भुगत रहे है। उन्होने बताया कि जब से कार्यदायी संस्था का काम चल रहा है, इन गड्ढों में गिरकर कई लोग चोटहिल हो चुके हैं। उन्होने बताया कि इसमें पालिका प्रशासन भी कम जिम्मेदार नहीं है।
कारण बगैर इसकी अनुमति के क्षेत्र में कोई कार्यदायी संस्था निर्माण आदि नहीं करा सकती किन्तु इसमें मानक के विपरीत कार्य से करोड़ों रूपये के बजट में घपला घोटाला की मंशा से नजरन्दाज किया जा रहा है जिससे लोगों में आक्रोश व्याप्त है।
उन्होने कहा कि एक तरफ सरकार भ्रष्टाचारियों के खिलाफ शिकंजा कस रही है, अब तक कई विभागों के अधिकारियों पर कार्यवाही भी हो चुकी है किन्तु पालिका प्रशासन व कार्यदायी संस्था चुनौती दे रही है, यह कृत्य कतई बर्दास्त नहीं है। मामले को मुख्यमंत्री के संज्ञान में लायेंगे और जरूरत पड़ी तो इसे लेकर जनहित में माननीय उच्च न्यायालय में याचिका भी दायर करेंगे।
⏺ क्षतिग्रस्त मार्गो की मरम्मत में आदेश का पालन नहीं कर रही संस्था-ईओ
मामले में अधिशाषी अधिकारी सुरेश कुमार मौर्य का कहना है कि कार्यदायी संस्था द्वारा 10 वार्डो के अलावा सभी में पाइप लाइन का विस्तार कराये जाने से मार्ग क्षतिग्रस्त हो रहे हंै जिसकी जानकारी लोगों के माध्यम से मिली है। इसे गंभीरता से लेकर कार्यदायी संस्था के अधिकारी को अवगत भी कराया किन्तु अमल नहीं किया गया फिर डीएम को भी पत्र प्रेषित किये हंै जिसमें निर्देश हुआ हैं, फिर भी अभी तक मार्गो की मरम्मत का कार्य शुरू नहीं किया गया है।
⏺ बोले कार्यदायी संस्था के सहायक अभियन्ता अमन यादव
कार्यदायी संस्था के सहायक अभियन्ता अमन यादव के मोबाइल पर काल किया गया जिन्होने रिसीव करते हुये बताया कि यह कार्य 65 करोड़ की लागत से कराया जा रहा है। मानक में जेसीबी के प्रयोग होने के सवाल पर उन्होने यह कहा कि किसने यह बताया। उन्होने कहा कि एक मीटर गहरायी में पाइप डालना है जो अन्य व्यवस्था से समतल गहराई संभव नहीं है, इसलिए जेसीबी मशीन से वार्डो, मोहल्लों व अन्य स्थानांे के मार्गो के किनारे खुदाई करायी जा रही है।



डिस्क्लेमर :इस आलेख में व्यक्त राय लेखक की निजी राय है। लेख में प्रदर्शित तथ्य और विचार से UPTRIBUNE.com सहमती नहीं रखता और न ही जिम्मेदार है
SHARE

आपकी प्रतिक्रिया