दिल्ली:- आज प्रियंका गांधीजी अपने मिशन यूपी में व्यस्त रहीं। कांग्रेस महासचिव एवं यूपी पुर्वांचल के चुनाव प्रभारी की  ज़िम्मेदारी संभालने के बाद प्रियंका गांधी के लिए बैठकों का लंबा सिलसिला आज भी जारी रहा। आज प्रियंका गांधी सुबह से ही मीटिंगों में व्यस्त रही। प्रियंका गांधी इतनी त्वरित सभाएं कर रही है एवं जनता के बीच लोगों से उनकी परेशानियां सुन रही है व उनका निवारण करने पर भी विचार कर रही है।

आज सुबह उनकी पहली सभा राहुल गांधी जी की घर पर हुई। प्रियंका गांधी सुबह 11 बजे राहुल गांधी जी के घर पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल और ग़ुलाम नबी आज़ाद से आने वाली रणनीति पर विचार विमर्श किया। इसके बाद वे डीएमके सांसद कनिमोझी से मिली और तमिलनाडु में सीट बंटवारे पर गहन बातचीत की।

इसके बाद दोपहर से प्रियंका गांधी की पार्टी नेताओं कार्यकर्ताओं से वर्ता का सिलसिला 12 बजे से चालू होकर शाम को ही खत्म हुआ। इस दौरान प्रियंका गांधी जालौन हमीरपुर, झाँसी के जिला एवं ब्लॉक अध्यक्षों से मिली व उनके साथ जिलों की समस्याएं उनके निवारण, कार्यकर्ताओं के काम व बूथ लेवल पर प्रयोग में आने वाली रणनीतियों पर बातचीत की। आज तक सिर्फ यही माना जाता रहा है कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को ही बूथ मैनेजमेंट मे महारत हासिल है प्रियंका गांधी के माइक्रो बूथ प्रबंधन की शुरुआती कार्यशाली को देखकर जानकारो का मानना है कि प्रियंका गांधी अमित को बूथ प्रबंधन मे पछाड़ सकती है !

सूत्रो के अनुसार प्रियंका गांधी की रणनीति बूथ लेवल तक यह सुनिश्चित करेगी कि लोगों तक यह बात पहुँचे की वर्तमान सरकार किन बहुत सारी जगहों पर नाकामयाब हुई व इससे भारत की जनता को कहां किस जगह कितना नुकसान हुआ और अधिक से अधिक लोगो को कांग्रेस से जोडने का कार्य बूथ स्तर पर किया जाऐगा इसी कडी मे प्रियंका गांधी ने त्वरित ही एक्शन लेते हुए जिला स्तर पर कांग्रेस अवलोकक एवं संविक्षकों ने अपनी तैनाती करना शुरू कर दी है। अगले चरण मे प्रियंका गांधी जनपदो मे जाकर बूथ लेवल तक जाकर कांग्रेस को मजबूत करने का मंत्र कांग्रेसियों को देंगी और बूथ को मजबूत करने के जिम्मेदार पदाधिकारियों की निगरानी भी करेगी

पुलवामा में हुए आतंकी हमले को देखते हुए प्रियंका गांधी ने अपनी शादी की सालगिरह न मनाने का निर्णय लिया जिसके लिए उनकी काफी सराहना भी की जा रही है।

प्रियंका गांधी के तेवर और कार्य करने की क्षमता और रंजीत को देखते हुए या अंदाजा लगाया जा सकता है आने वाले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी उत्तर प्रदेश में पूरे दमखम के साथ लड़ेगी अब देखने वाली बात या होगी कि प्रियंका गांधी की मेहनत व रणनीति उत्तर प्रदेश मे कांग्रेस को कितनी मजबूती दे पाती है !

 



डिस्क्लेमर :इस आलेख में व्यक्त राय लेखक की निजी राय है। लेख में प्रदर्शित तथ्य और विचार से UPTRIBUNE.com सहमती नहीं रखता और न ही जिम्मेदार है
SHARE

आपकी प्रतिक्रिया